बुधवार, 4 जून 2014

          बंधन 
wallpaper, girl, nature, girls, wallpapers, cool

बहुत  ऊँची  उड़ान उड़नी थी उसे
नीले आकाश की ऊँचाइयों में
स्वछंद होकर घूमना था
देखी थी उसने नील गगन को
कई बार घोंसले से निकलकर
नजरें  जब भी ऊँची करती
और भी खूबसूरत दिखता आसमान 
कोई बंधन नहीं था वहाँ
इस छोटे से दरख़्त पर फुदकना
अपने खूबसूरत पंखों को फैलाना
बस  यहीं तक सीमित नहीं रहना था उसे
माप लेना चाहती थी आसमान को
स्वछंद होकर बादलों के बीच उड़ना था उसे 

माँ की अनुभवी आँखें
उसके ख़्वाबों को जान चुकी थी
एक-एक कदम बढ़ाने की हिदायत देती
पर वह तो ठान चुकी थी
आजादी से उड़ने  की
बंधन  मुक्त होने की
उसकी खूबसूरती की लोलुप नजरें
कब से उसे घूर रही थी
दबोचने की चाह में
पर बेखबर वह बेचैन थी

बादलों से बातें करने की चाहत
उसे और भी व्यग्र बनाती
 आखिर एक दिन उड़  चली
अपनी ख्वाहिश पूरी करने
और दबोच ली गयी
शैतानी पंजों में  
तड़पती उसकी जिंदगी 
और दम तोड़ती ख्वाहिशें 
नजर आने लगा उसे 
नीला आसमान बिल्कुल काला 
बदरंग और बन्धनयुक्त ………… 



हमारी बेटियों के लिए यह रचना ………… 





9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (06.06.2014) को "रिश्तों में शर्तें क्यों " (चर्चा अंक-1635)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बस हम संस्कारों के नाम का रोना रोतें हैं.. जब कुछ करने की बारी आती है तो हम अपनी इज़्ज़त का रोना रोते हैं.
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उम्दा अभिव्यक्ति प्रतिभा जी ऊँचे सपनो और उड़ान के बाद भी आज बेटियां क्रूर बाजों से सुरक्षित नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  4. इन शैतानी पंजों से कैसे सतर्क और सावधान रहना है इसकी क्षमता हमें अपनी बेटियों में विकसित करनी होगी ! सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं