मंगलवार, 2 अप्रैल 2013

एक परी ...........

एक परी ...........
         
          झील की निर्मलता की 
              ओढ़नी ओढ़ 
         हिरनी सी कुलाँचे भरती 
              लगाती दौड़ 
         मोरनी सी नाच उठती 
             देख बादलों की ओर 
         हवाओं सी बह उठती 
             उष्णता छोड़ 
         अमराइयों में गा उठती
             कोयल सी रोज 
        चंदा से मांग लेती 
           चांदनी की ओज 
        खिलखिलाती हँस पड़ती 
           बैठ अम्मा की गोद 
       एक परी बन के आई 
           बिटिया इक  रोज .............


उन्नति के जन्मदिन पर  

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उम्दा,उन्नति के जन्मदिन सस्नेह बहुत२ बधाई,,,शुभकामनाए,,,

    Recent post : होली की हुडदंग कमेंट्स के संग

    उत्तर देंहटाएं
  2. pyari beti ka janm din mubarak ho,"khush rahe tu sada ye dua hai meri,ma ki bahon me roj tu hasti rahe,khwab tere hamesaha sach hote rahen,varat khooshion ki roj sajti rahe

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेटियाँ हमारे लिए अनमोल है,बेटियाँ हैं तो कल है,बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनुपम भाव संयोजित किये हैं आपने ... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही प्यारी कविता और मनमोहक मुस्कान लिए बेटी उन्नति......बिटिया को ढेरों शुभकामनायें , स्नेहाशीष

    उत्तर देंहटाएं
  6. सचमुच बहुत प्यारी होती हैं बेटियां... देर से सही हमारी ओर से उन्नति बिटिया को ढेर सार स्नेह और आशीष...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सभी का आशीष बिटिया पर बनी रहे .........बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर बिटिया जैसी प्यारी रचना

    उत्तर देंहटाएं