सोमवार, 26 अगस्त 2013

  क्यों हुई वह लड़की ?

पुनः ख़बरों में है एक बेटी
लुटी अस्मत, मौत से लड़ती 
सवाल खड़ा करती
कब तक सहती रहेगी
कही न कही एक बेटी
आवाज उठाने वाले
हर तरफ है तैयार
कानून भी है बनकर तैयार
लेकिन क्या बच सकेगी बेटी?


सवालों से घिरी है चुनौती 
क्या कानून, पुलिस, सरकार 
दे सकते हैं उसे जबाब 
 जब वह अन्दर से घुटेगी 
अपनी बेबसी पर कोसेगी 
कि क्यों हुई वह लड़की ........................?

6 टिप्‍पणियां:

  1. स्थिति दुखद है, शर्मनाक है ... आलम बेबसी का है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. मार्मिक प्रस्तुति,... बेटी...को अपनी रक्षा खुद करनी होगी ....हम माओं को बस कमर कसने की जरुरत है ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार - 15/09/2013 को
    भारत की पहचान है हिंदी - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः18 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    उत्तर देंहटाएं
  4. इस भयावह स्थिति से समाज को उभारना होगा ... ये बदलाव लाना होगा ओर पुरुष समाज को सबसे ज्यादा अरिवर्तन काना होगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बदलाव आयेगा जरूर ...पर अभी दिल्ली दूर नजर आती है.

    उत्तर देंहटाएं